आज माणिक जी का जनमदिन है

>> गुरुवार , 1 July 2010


आज, 1 जुलाई को अपनी माटी वाले माणिक जी का जन्मदिन है। ये आप का ब्लॉग जगत मे पहला जन्म दिन है, मे सब चिटठाकरो की और से आप के मंगलमय ब्लॉग्गिंग और शतायु आयु की कामना करता हूँ |


बधाईयाँ व शुभकामनाएं

:- शेखर कुमावत

13 टिप्‍पणियां:

amritwani.com ने कहा…

माणक जी को अमृत'वाणी'.com और से बधाईयाँ व शुभकामनाएं |

Shekhar Kumawat ने कहा…

आसमान में है जितने सितारे
जिन्दगी में उतने साल तुम्हारे
पूरे हों सभी ख्वाब तुम्हारे
ब्लॉगजगत पर सदा रहो साथ हमारे


माणक जी आपको जन्मदिन की बहुत सारी बधाईयाँ और आनेवाले सालों के लिए हार्दिक-शुभ-कामनाएं


Shekhar Kumawat

Udan Tashtari ने कहा…

माणक जी को बधाईयाँ व शुभकामनाएं.

संगीता पुरी ने कहा…

माणक जी को जन्‍मदिन की बधाई !!

arun c roy ने कहा…

जन्म दिन की हार्दिक शुभकामनाएं !

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

माणक जी को जन्‍मदिन की बधाई एवं हार्दिक शुभकामनाएँ !!

himani ने कहा…

congratulations

sheetal ने कहा…

manikji ko hum sabki taraf se bahut subhkamnai.

kavi kulwant ने कहा…

badhayee badhayee...badhaayee...

रज़िया "राज़" ने कहा…

माणिकजी को उनके जन्मदिन की ढेरों शुभकामनाएं

Kusum Thakur ने कहा…

जन्मदिन की ढेरों शुभकामनायें एवं बधाई !!

सत्य गौतम ने कहा…

Aapka janm to normal hua hoga , hai na ? special janm yahan dekho ji . कौशल्या आदि मां कैसे बनीं? दशरथ से? यज्ञ से? नहीं; दशरथ ने होता, अवयवु और युवध नामक तीन पुरोहितों से ''अपनी तीनों रानियों से सम्भोग करने की प्रार्थना की।'' पुरोहितों ने ''अपने अभिलषित समय तक उनके साथ यथेच्छ सम्भोग करके उन्हें राजा दशरथ को वापस कर दी।'' (पृ. 11) ऐसे वर्णन न तथ्यपूर्ण कहे जायेंगे, न अस्मितामूलक, बल्कि कुत्सापूर्ण कहे जाऐंगे। ब्राह्मणवादी मनुवादी व्यवस्था में दलितों के साथ स्त्रिायां भी उत्पीड़ित हुई हैं। कौशल्या आदि को उनका वृद्ध नपुंसक पति अगर पुरोहितों को समर्पित करता है और पुरोहित उन रानियों से यथेच्छ सम्भोग करते हैं तो इससे स्त्राी की परवशता ही साबित होती है। दलित स्त्राीवाद ने जिसे ढांचे का विकास किया है, वह पेरियार की इस दृष्टि से बहुत अलग है। पेरियार का नजरिया उनके उपशीर्षकों से भी समझ में आता है, ÷दशरथ का कमीनापन' (पृ. 33), ÷सीता की मूर्खता', (पृ. 35), ÷रावण की महानता' (पृ. 38), इत्यादि।

सत्य गौतम ने कहा…

mubarak ho ji , apka janm sabko .