सन्डे का विडियो

राष्ट्रीय एकता जिंदाबाद

वक़्त के साथ जहां खेमेबाज़ी चल रही है. ज़हर घोलने वालो की ज़मात बढ़ रही हैं ऐसे में आओ मिलकर एक बार फिर से गायें रोजाना ये गीत.जिसमे हमारे देश का गुणगान है,मिट्टी का गान है.अपना-अपना राग आलापना कुछ देर छोड़,कुछ सामलाती बात करें.माणिक



2 टिप्‍पणियां:

कमलेश शर्मा ने कहा…

वाह धुरंधर चिट़ठाकारों की प्रस्‍तुति पसंद आई। लगे रहो्।

Shekhar kumawat ने कहा…

bahut khub


pasand aaya manik ji hame


shekhar kumawat

http://kavyawani.blogspot.com/